मुम्बई से बुलाये गए थे डकैत, 10 दिन पहले कराई गई थी रैकी, भागने के रोडमैप किया लगता था तैयार

सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now

अम्बेडकरनगर: गत वर्ष 27 अगस्त को दिन दहाड़े टाण्डा नगर क्षेत्र के मोहल्लाह छज्जापुर में संचालित आईसीआईसीआई बैंक में चार अज्ञात हेलमेट लगाए असलहाधारी बदमाशों ने 42 लाख रुपय की डकैती डाल कर जनपदीय पुलिस को जहां खुली चुनौती दिया था वहीं आम नागरिकों की सुरक्षा पर भी सवालिया निशान उठने लगे थे। बहुचर्चित बैंक लूटकांड का लखनऊ पुलिस ने खुलासा करते हुए अपराधियों को गिरफ़्तार करने का दावा किया लेकिन मास्टरमाइंड को फरार बताया जा रहा है हालांकि फरार आरोपी को लखनऊ पुलिस स्थानीय सूत्रों के सहारे तलाश करने में जुट गई है। घटना के खुलासे से सनसनी खेज मामला यह सामने आया है कि घटना का मास्टर माइण्ड टाण्डा का था और डकैत मुम्बई के थे जबकि शरणदाता लखनऊ का था। फरार मास्टर माइण्ड की तलाश में ताबड़तोड़ छापेमारी की जा रही है। बताते चले कि विगत वर्ष 27 अगस्त को टाण्डा स्थित आईसीआईसीआई बैक में दिनदहाड़े बड़े ही दुस्साहसिक तरीके से असलहाधारी चार बदमाशों ने डकैती डाली थी तब से पुलिस इस घटना का पर्दाफाश करने के लिए लगी थी। एसटीएफ भी लगाई गई थी लेकिन घटना इतने सुनियोजित तरीके से की गई थी कि जनपद की पुलिस को सुराग का एक कण भी हाथ नही लग सका था। एक समाचार पत्र के अनुसार शुक्रवार को राजधानी पुलिस द्वारा लखनऊ में हुये लूट व हत्या का पर्दाफाश किया गया। इसी दौरान यहां की लूट का भी पर्दाफाश किया गया जिसमें चार गिरफ्तारी हुई है जबकि जनपद का रहने वाला लईक फरार है। यह टाण्डा का रहने वाला है। मिली जानकारी के मुताबिक लईक द्वारा इन डकैतों को 10 दिन पहले से रेकी कराई जा रही थी। एक एक गली एक एक मुहल्ला इनके द्वारा छान मारा गया था। डकैती करके भागने का रोडमैप भी तैयार किया गया था। डकैती के बाद प्रीतमपुर के पास एक मैदान में लूटे गये 42 लाख रूपये का बटवारा हुआ जिसमें फिरोज और कादर ने 11-11 लाख रूपया लिया। फिरोज ने मुम्बई में घर बनवाने में पैसा लगवाया जबकि कादर ने पूर्व में लिये गये कर्ज को चुकाया। लईक और सीबू ने 10-10 लाख रूपये का बंटवारा किया। जानकारी के अनुसार अपर पुलिस अधीक्षक अवनीश कुमार मिश्र को टाण्डा बैंक लूट कांड से सम्बंधित जानकारियों के लिए लखनऊ बुलाया गया है। आरोपियों के पास से 50 हज़ार रुपिय की जो गद्दी बरमाद हुई हुई है उस ओर आईसीआईसीआई की मुहर लगी हुई थी।
बहरहाल लखनऊ पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार केने के बाद टाण्डा बैंक लूटकांड का भी खुलासा कर दिया तथा आर्तनाद के ही रहने वाले लईक को मास्टरमाइंड बताया गया है हालांकि वो पुलिस की गिरफ्त से फिलहाल काफी दूर है।

सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now