इस बार नहीं सजेगा माँ दुर्गा का सार्वजनिक पण्डाल – बैठक सम्पन्न


अम्बेडकरनगर: कोविड 19 प्रोटोकॉल के कारण इस बार माँ दुर्गा का सार्वजनिक पण्डाल नहीं सजेगा लेकिन घरों में छोटी प्रतिमाएं रखकर पूजा अर्चना की जा सकेगी और विसर्जन के लिए सिर्फ दो व्यक्ति ही जायेंगे।
उक्त बातें पुलिस क्षेत्राधिकारी संतोष कुमार ने टाण्डा तहसील सभागार में आयोजित पीस कमेटी के बैठक में कहा। उन्होंने कहा कि शासन कि मंशानुसार कोरोना काल के दौरान आयोजित होने वाले महापर्व दुर्गा पूजा को घरों में मनाने का निर्देश जारी हुआ है। श्री संतोष में कहा कि अगर शासन की तरफ से अन्य कोई भी दिशा निर्देश आता है तो उसकी सूचना अविलम्ब सभी को उपलब्ध कराई जाएगी फिलहाल सार्वजनिक दुर्गा पंडालों को सजाने एवं सार्वजनिक स्थलों पर प्रतिमाओं को नहीं रखने का आदेश है। उक्त अवसर पर मौजूद टाण्डा तहसीलदार संतोष कुमार ओझा ने मौजूद भीड़ को संबोधित करते हुए स्पष्ट रूप से कहा कि शासन की मंशानुसार कोविड 19 प्रोटोकाल का प्रत्येक दशा में पूर्णतः पालन कराया जाएगा इसलिए सार्वजनिक स्थानों पर पंडालों को सजाने व प्रतिमाओं को रखने की अनुमति नहीं दी जा रही है।श्री केंद्रीय दुर्गापूजा महासमिति के अध्यक्ष विशाल मांझी ने शासन की मंशा व कोविड 19 प्रोटोकॉल का पूर्ण पालन करते हुए कहा कि परंपरानुसार जिन स्थानों पर प्रतिमाएं स्थापित होती रही है उन स्थानों पर मात्र कलश (अखंड ज्योति) स्थापना की इजाजत दी जाए। सीओ टाण्डा ने कहा कि शासन की तरफ से दिशा निर्देशों को पालन कराना ही स्थानीय प्रशासन का कार्य है और यदि कलश या प्रतिमा स्थापित करने सम्बंधित कोई भी दिशा निर्देश आता है तो अविलम्ब सभी को सूचित किया जाएगा। आपको बताते चलेंकि जारी माह अक्टूबर के तीसरे व चौथे सप्ताह में महापर्व नवरात्रि, दुर्गापूजा व दशहरा मनाया जाना है जिसके लिए टाण्डा तहसील सभागार में दुर्गा पूजा पंडालों के पदाधिकारियों व संभ्रान्त नागरिकों की बैठक आहुति की गई थी जिसमें मुख्य रूप से श्री केंद्रीय दुर्गा पूजा महासमिति के अध्यक्ष विशाल मांझी व महामंत्री दिनेश मौर्य सहित घिसियावन मौर्य, सुभाष कश्यप, रघुनाथ यादव, तेजस्वी जायसवाल, अंकित जायसवाल, सुरजीत मध्यदेशिया, अमर शंकर वर्मा, पंकज सोनी, अखिलेश जायसवाल, रामानंद पाण्डेय, सुनील कन्नौजिया, सुरेंद्र मांझी, वैभव अग्रवाल, आशीष यादव, ओम प्रकाश मांझी आदि सहित सैकड़ों लोग मौजूद रहे।आपको बताते चलेंकि एक समाचार पत्र में छपी भ्रमित खबर को लेकर श्रद्धालु काफी असमंजस की हालत में थे और खबर को सही मानते हुए अधिकांश दुर्गा पूजा समितियों ने प्रतिमाओं का आर्डर ही नहीं बल्कि सजावट व डीजे वालों की भी बुकिंग करा लिया था। कई स्थानों पर पंडालों को सजाने के पूरा खाका भी तैयार हो चुका है लेकिन आज हुई बैठक के बाद सभी श्रद्धालुओं की मंशा पर पानी फिर गया। बैठक में मौजूद मूर्तिकारों ने भी अपना दुखड़ा रट हुए कहा कि आर्डर पर अधिकांश प्रतिमाओं को तैयार किया जा चुका है और मात्र उन प्रतिमाओं को अंतिम रूप देना बाकी है लेकिन अब प्रशासन द्वारा सार्वजनिक स्थानों पर प्रतिमाओं को ना रखने की बात कर रहे हैं जिससे उनके सामने काफी मुश्किलें पैदा हो जाएगा। तहसीलदार श्री संतोष ने कहा कि स्थानीय स्तर पर हम सब कुछ नहीं कर सकते हैं और जिस तरह से पूर्व में पर्वों को घरों में मनाया गया है उसी तरह आगामी सभी त्योहारों को भी घरों में ही मनाया जाएगा जब तक शासन की तरफ से कोई नई गाइड लाइन नहीं आ जाती है।बैैठके के अंत में कोतवाली निरीक्षक संजय कुमार पांडेय ने सभी का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए सभी पर्वों को कोविड 19 प्रोटोकाल का पालन करते हुए शांतिपूर्वक मनाने की अपील किया।