अम्बेडकरनगर (रिपोर्ट: अलम खान – एडिटर इन चीफ) टाण्डा ताजियादार कमेटी व वक्फ मोतवल्ली के बीच हुए मनमुटाव को स्थानीय प्रशासन ने गंभीरता से लेते हुए देर रात्रि में दोनों पक्षों के बीच बैठक करा कर मामला सुलझाने का सफल प्रयास किया जिसके बाद दोनों पक्षों ने प्रशासन को आश्वासन दिया कि मोहर्रम के जुलूसों को आपसी सहमति के साथ शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराएंगे।
बताते चलेंकि शनिवार को टाण्डा ताजियादार कमेटी के अस्तित्व पर सवाल उठाते हुए मौजूदा वक्फ मो.रज़ा व कनीज़ फिज्ज़ा बीबी के मोतवल्ली सैय्यद काज़िम रज़ा (राजा नज़मी) ने प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों प्रपत्र देकर 10वीं मोहर्रम का ऐतिहासिक ताजिया जुलूस अपने नेतृत्व में निकालने का दावा किया था जबकि दूसरी तरफ टाण्डा ताजियादार कमेटी के सचिव रईसुल हसन ने दावा किया कि 2009 से टाण्डा ताजियादार कमेटी के नेतृत्व में मोहर्रम पर्व शांतिपुर्ण ढंग से सम्पन्न कराया जाता रहा है।
उक्त आरोप प्रत्यारोप के बाद जिलाधिकारी सैमुअल पॉल एन व पौलुस कप्तान अजीत कुमार सिन्हा के निर्देशन के बाद उपजिलाधिकारी टाण्डा दीपक वर्मा व पुलिस क्षेत्राधिकारी टाण्डा संतोष कुमार के संयुक्त नेतृत्व में शनिवार देर शाम को टाण्डा कोतवाली निरीक्षक अमित कुमार सिंह के कार्यालय में दोनों पक्षों की महत्वपूर्ण बैठक कराई गई। महत्वपूर्ण प्रशासनिक बैठक में वक्फ मोतवल्ली सैय्यद काज़िम रज़ा आब्दी उर्फ राजा नज़मी व उनके पुत्र सैय्यद आलीशान तथा टाण्डा ताजियादार कमेटी के सचिव सैय्यद रईसुलहसन उर्फ गुड्डू व ताजदार हुसैन मौजूद रहे।
दोनों के बीच प्रशासनिक हस्तक्षेप के कारण हुई वार्ता के बाद राजा नज़मी ने कहा कि उन्हें टाण्डा ताजियादार कमेटी से कोई सरोकार नहीं है। टाण्डा ताजियादार कमेटी के सचिव श्री गुड्डू ने कहा कि पूरे शहर में अजादारों, ताजिया मार्गों व अन्य व्यवस्थाओं से जुड़ी समस्याओं के सम्बंध में प्रशासन से सहयोग लेकर आपसी सौहार्द के माहौल में काम कराती है।
टाण्डा ताजियादार कमेटी को तथाकथित बताये जाने से आक्रोशित श्री गुड्डू ने कहा कि 2009 में तत्कालीन उपजिलाधिकारी व सीओ टाण्डा की रिपोर्ट के आधार पर टाण्डा ताजियादार कमेटी का गठन कर पंजीयन कराया गया है और टाण्डा ताजियादार कमेटी विषम परिस्थितियों में भी आपसी सौहार्द बना कर मोहर्रम पर्व को शांतिपुर्ण ढंग से सम्पन्न कराती रही है तथा आगामी दोनों में भी शांतिपुर्ण माहौल में ताजिया का ऐतिहासिक जुलूस सम्पन्न होगा। श्री गुड्डू कहा कि वक्फ मोतवल्ली को वक्फ संपत्तियों सहित अपने जुलूसों को निकालने का पूर्ण अधिकार है।
उपजिलाधिकारी श्री दीपक व सीओ टाण्डा श्री संतोष ने संयुक्त रूप से दोनों पक्षों से शांतिपूर्ण ढंग से सौहार्दपूर्ण माहौल में जुलूस व अन्य कार्यक्रमों को सम्पन्न कराने की अपील किया जिसके बाद दोनों पक्षों ने प्रशासन को पूर्ण सहयोग देने का आश्वासन दिया।
टाण्डा कोतवाली निरीक्षक ने बैठक की तश्वीर मीडिया बंधुओ को शेयर करते बताया कि बैठक पूर्ण रूप से सफल रही और दोनों पक्ष ने भाईचारे के माहौल में जुलूसों को सकुशल सम्पन्न कराने में पूर्ण सहयोग देने का आश्वासन दिया है।
बहरहाल वक्फ मोतवल्ली व टाण्डा ताजियादार कमेटी के बीच उपजे विवाद को प्रशासन ने काफी गंभीरता से लेते हुए दोनों पक्षों के बीच बैठक करा कर मामला सुलझाने का सफल प्रयास किया जिसकी क्षेत्र में सराहना हो रही है।