सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now

अम्बेडकरनगर: जिला अस्पताल में इलाज के दौरान 22 वर्षीय रिजवान पुत्र इसराइल निवासी चटोरी गली छज्जापुर की बीती रात्रि मृत्यु हो गई थी जिसके शव को पोस्टमार्टम के उपरांत भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सलारगढ़ कब्रिस्तान में सुपुर्दे खाक कर दिया गया। डीएम एसपी ने घटना स्थल का निरीक्षण किया जबकि सुरक्षा दृष्टि से छज्जापुर में कई थानों की पुलिस व पीएसी बल तैनात कर दिया गया है।टाण्डा नगर क्षेत्र के मोहल्लाह छज्जापुर निवासी 22 वर्षीय रिजवान की जिला अस्पताल में मृत्यु होने के बाद परिजनों ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि 15 अप्रैल को रिजवान घरेलू समान लेने गया था जहां पुलिस ने उसकी पिटाई कर दिया और उसकी इलाज के दौरान मृत्यु हो गई। शव को पोस्टमार्टम कराने के बाद शाम में कड़ी सुरक्षा के साथ टाण्डा लाया गया जहां उसके पैतृक आवास से जनाजा सलारगढ़ कब्रिस्तान ले जाया गया। लॉक डाउन के कारण प्रशासनिक अमले के अतिरिक्त मात्र 20 लोगों को ही कब्रिस्तान में जाने की अनुमति दी गई थी। जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र व पुलिस कप्तान आलोक प्रियदर्शी सुपुर्दे खाक होने तक टाण्डा में कैम्प किये हुए थे। अपर पुलिस अधीक्षक अवनीश कुमार मिश्र ने पीड़ित परिजनों की आर्थिक मदद करते हुए आश्वासन दिया कि पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के अनुसार ही कार्यवाही होगी।मौके पर उप जिलाधिकारी अभिषेक पाठक, सीओ अमर बहादुर सहित कई थानों की पुलिस व पीएसी बल तैनात किया गया है। सोशल मीडिया पर पुलिस की मार से नौजवान की मौत होने की पोस्ट से हड़कम मच गया था तथा आक्रोशित सभासद दीपक केडिया सहित एआईएमआईएम के प्रदेश सचिव इरफान पठान, सपा जिलाध्यक्ष राम सकल यादव, सपा जिला महासचिव मुजीब अहमद सोनू, पूर्व सपा विधायक हाजी अजीमुलहक पहलवान के पुत्र मुसाब अजीम, भीम प्रसाद, गाजी फाउंडेशन के अध्यक्ष मुराद अली, कसीम अशरफ, सद्दाम हुसैन, सरफ़राज़ सहित काफी संख्या में पहुंचे लोगों ने पीड़ित परिजनों को ढांढस बंधाया।आपको बताते चलेंकि 22 वर्षीय मृतक रिजवान के पिता इसराइल ने टाण्डा कोतवाल संजय कुमार पाण्डेय को तहरीर देते हुए बताया कि उसका पुत्र रिजवान गत 15 अप्रैल को घरेलू सामान लेने पोस्ट ऑफिस के पास गया था कि एक पुलिस वाहन से आई महिला दरोगा सहित अन्य पुलिस कर्मियों ने लाठियों से मारना शुरू कर दिया जिसके बाद उसका पुत्र किसी तरह घर पहुंचा लेकिन लॉक डाउन व पुलिस की डर के कारण वो लोग घरेलू इलाज कर रहे थे लेकिन बाद में टाण्डा अस्पताल ले गए जहां से उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया जहां उसकी बीती रात्रि मृत्यु हो गई। मृतक के पिता ने आरोपी पुलिस वालों के खुलाफ़ मुकदमा दर्ज करने की मांग किया जिसकी जांच टाण्डा कोतवाल संजय कुमार मिश्र ने शुरू कर दिया है।

सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now