अम्बेडकरनगर: हरीनगर सेक्टर के बूथ क्रमांक 98 पर आज संगठन द्वारा चलाये जा रहे 17 सितंबर नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस से 2 अक्टूबर गांधी जी जन्मजयंती तक सेवा पखवारा के क्रम में आज करोङो कार्यकर्ताओं के प्रेरणाश्रोत पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जन्मजयंती पर उनके जीवन पर गोष्ठी व मन की बात सुना गया इस कार्यक्रम में मुख्यातिथि के रूप में टाण्डा की पूर्व विद्यायक श्रीमती संजूदेवी व संगठन द्वारा तय मुख्यवक्ता श्याम बाबू व अध्यक्षता के रूप में लोकतंत्र सेनानी रमा शंकर जी रहे।
मन की बात सुनने के पश्चात श्याम बाबू ने उपस्थित कार्यकर्ताओ को बताया कि 25 सितंबर 1916 को पण्डित दीनदयाल का जन्म मथुरा के पास स्थित नगला गांव में हुआ पिता भगवती प्रसाद रेलवे में व माता राम प्यारी ग्रहणी थी 1922 में पिता व 1924 में माता के निधन के कारण माता पिता का वह प्यार नही मिला जो मिलना चाहिए था। राजस्थान के गंगापुर में नाना और नानी के सरपरस्ती में बड़े ही कठिनाइयों से पढ़ाई व लालन पालन हुआ।दीनदयाल का पढ़ाई हमेशा अच्छा स्थान प्राप्त करता था। संघ का प्रशिक्षण लेकर पूरी तरह से राष्ट्रीय स्वम सेवक संघ के कार्यो को आगे बढाने में व्यस्त हुए तो पीछे मुड़कर नही देखे बल्कि राष्ट्रधर्म का पालन करते करते राष्ट्रधर्म,पांचजन्य,स्वदेश जैसे पत्रिकाओं की शुरुआत कर देश वासियों के दिलो राष्ट्र के उस भाव को जागृत करने का काम किया जिसका समाज मे अभाव सा हो गया था। उसी समय डॉ0श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने संघ के तात्कालिक प्रमुख गुरु जी से सहयोग की गुहार लगाई। सहयोग में पण्डित दीनदयाल जी को इसके लिए चुना गया। बड़ी मशक्कत के बाद 21 सितंबर 1951 उत्तर प्रदेश राजनैतिक सम्मेलन आहूत किया गया!और सभी देशभक्तों की सोच वाली सोच वाली भारतीय जनसंघ की स्थापना की गई!
भारतीय राजनीति को जाति पाती,ऊंच नीच से ऊपर उठकर राष्ट्रनीति को महत्व दिया गया।दीनदयाल की मृत्यु सन्दिग्ध परिस्थितियों में 11 फरवरी 1968में मात्र 52 वर्ष की आयु में सासाराम रेलवे स्टेशन पर हुआ और उनका पार्थिव शरीर एक रेल के डिब्बे में मिला था। ऐसे मनीषी युग पुरुष के सम्मान में भाजपा की सरकार ने उनके नाम से कई तरह की जनहित योजनाएं चलाकर उनकी सोच के अनुसार समाज के अंतिम व्यक्ति के चेहरे पर मुस्कान लाने के काम कर रही रही है।
श्याम बाबू ने ऐसे महामानव के चरणों मे पुष्पांजलि अर्पित कर बारी बारी सभी कार्यकर्ताओं से अपना पुष्पांजलि अर्पित हेतु आग्रह किया।
इस अवसर पर लोकतंत्र सेनानी रमाशंकर ने कांग्रेस सरकार की मुखिया इंदिरा गांधी द्वारा थोपे गए आपातकालीन बर्बरता को बयां किया और कहा कि भाजपा सरकार हम सभी सम्मान दे रही है और मोदी के नेतृत्व में देश आगे बढ़ रहा है!
कार्यक्रम में प्रमुख रूप सुमित गुप्ता,रवि साहू,राम सुंदर कन्नौजिया,बजरंगदल के जिला संयोजक आलोक चौरसिया, राजू मोदनवाल,सन्तोष खत्री,ओम प्रकाश गुप्ता,रविचंद्र गुप्ता, राकेश गौतम,सुनील मौर्या,सुनील गौतम,अंकित गांधी,अमित,हरिओम जायसवाल,राम अवतार कन्नौजिया, जंगबहादुर कन्नौजिया,श्याम मोहन,राजन यादव,बालगोविंद बर्मा, राजेश सिंह,श्याम सुंदर यादव,आशु यादव,कुसुम गुप्ता,शोभना गुप्ता, लीलावती मोदनवाल,तारावती मोदनवाल,शोभना गुप्ता,परी गुप्ता,आनंदी गुप्ता,विराट,आकाश गुप्ता,रवि गुप्ता,संजय मोदनवाल सहित दर्जनों कार्यकर्ताओ ने उनके जीवन चरित्र को जानकर प्रेरणा लिया और राष्ट्र के प्रति अपनी भूमिका को तय किया।