बीएन इंटर कालेज में मनाया गया कौमी एकता सप्ताह


अम्बेडकरनगर: कौमी एकता सप्ताह के अंतर्गत बीएन इंटर कॉलेज अकबरपुर में कौमी एकता समारोह मनाया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रधानाचार्य विपिन सिंह तथा गौरव गोस्वामी के संचालन में कार्यक्रम आयोजित हुआ। कार्यक्रम में जिला विद्यालय निरीक्षक विनोद कुमार सिंह ने संबोधित करते हुए कहा कि राष्ट्रीय एकता ही वह भावना है जो विभिन्न धर्मों, संप्रदायों, जाति, वेश भूषा, सभ्यता एवं संस्कृति के लोगों को एक सूत्र में पिरोए रखती है। अनेक विभिन्नताओं के उपरांत भी सभी परस्पर मेल जोल से रहते हैं।सितारे उर्दू एवार्ड से सम्मानित मोहम्मद शफी नेशनल इंटर कॉलेज हंसवर के शिक्षक मोहम्मद असलम खान ने कहा कि भारत देश राष्ट्रीय एकता की एक मिसाल है। जितनी विभिन्नताएँ हमारे देश में उपलब्ध हैं उतनी शायद ही विश्व के किसी अन्य देश में देखने को मिलें। यहाँ अनेक जातियों व संप्रदायों के लोग, जिनके रहन सहन, खान-पान व वेश भूषा पूर्णतया भिन्न हैं, एक साथ निवास करते हैं। सभी राष्ट्रीय एकता के एक सूत्र में पिरोए हुए हैं । डॉक्टर तारा वर्मा ने कहा कि जब तक किसी राष्ट्र की एकता सशक्त है तब तक वह राष्ट्र भी सशक्त है। बाह्‌य शक्तियाँ इन परिस्थितियों में उसकी अखंडता व सार्वभौमिकता पर प्रभाव नहीं डाल पाती हैं परंतु जब जब राष्ट्रीय एकता खंडित होती है तब तब उसे अनेक कठिनाइयों से जूझना पड़ता है। हम यदि अपने ही इतिहास के पन्नों को पलट कर देखें तो हम यही पाते हैं कि जब जब हमारी राष्ट्रीय एकता कमजोर पड़ी है तब तब बाह्‌य शक्तियों ने उसका लाभ उठाया है और हमें उनके अधीन रहना पड़ा है। माध्यमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष उदय राज मिश्रा ने कहा कि किसी भी राष्ट्र की एकता, अखंडता व सार्वभौमिकता बनाए रखने के लिए राष्ट्रीय एकता का होना अनिवार्य है। भारत जैसे विकासशील देश के लिए जो वर्षों तक दासत्व का शिकार रहा है वहाँ राष्ट्रीय एकता की संपूर्ण कड़ी का मजबूत होना अति आवश्यक है ताकि भविष्य में उसकी पुनरावृत्ति न हो सके।इस अवसर पर उदयराज मिश्रा, डॉक्टर मेला,अनसर जलालपुरी, राम चंद्र द्विवेदी सरल,अंजनी कुमार दूबे भारद्वाज आदि कवियों ने आपसी रिश्तों की डोर को मजबूत करने के उद्देश्य से अपनी रचनाओं के माध्यम से कविताओं को प्रस्तुत किया। इस अवसर पर राजकीय बालिका इंटर कॉलेज अकबरपुर की प्रधानाचार्य सत्यवती, जिला स्काउट ट्रेनर श्रीमती प्रियंका पांडेय आदि लोग उपस्थित थे।