अम्बेडकरनगर: आल्टो कार ना मिलने से नाराज़ टाण्डा कोतवाली क्षेत्र के ब्राहिमपुर कुसुमा गाँव में दहेज़ लोभियों ने नवविवाहिता को मौत की घाट उतार दिया। उक्त आरोप लगाते हुए शव लेकर पहुंचे मृतिका के परिजनों ने प्रार्थना पत्र दे कर न्याय की गोहार लगाई है। मौके से ससुराल पक्ष के सभी लोग फरार हो गए लेकिन पुलिस की सतर्कता के कारण देवर को हिरासत में ले लिया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार 20 वर्षीय आकांक्षा धुरिया पुत्री अच्छे राम धुरिया निवासी पाण्डेय बाबा धाम, मोतिगरपुर जिला सुल्तानपुर का विवाह 16 फरवरी 2020 को टाण्डा कोतवाली क्षेत्र के ब्राहिमपुर कुसुमा निवासी रतिपाल गौड़ के पुत्र विकास गौड़ के साथ हुआ था। विवाह के समय ही ऑल्टो कार व एक लाख की मांग की जा रही थी, लेकिन रिश्तेदारों के समझाने ओर तीन लाख रूपया नगद दिया था। मृतिका के पिता ने बताया कि शादी के बाद उसकी पुत्री ने फोन से बताया कि उसके पति, सास, ससुर, ननद व देवर मिलकर उसे मारते पीटते हैं और भूखा रखते हैं। सूचना के बाद नवविवाहिता के पिता ने लड़की की विदाई करा लिया लेकिन पुनः रिश्तेदारों के दबाव के बाद 4 मई को उसके पति, सास, ससुर, ननद व देवर ने बिदाई करा कर ब्राहिमपुर कुसुमा लेकर चले आए, और आज 7 जून को फोन से सूचना दी गई कि आकांक्षा का स्वास्थ्य खराब है, जिसकी सूचना पर तत्काल परिजन ब्राहिमपुर कुसुमा आए, तो आकांक्षा मृत्यु हालत में पड़ी थी और परिजन फरार हो गए थे। नवविवाहिता का शव लेकर टाण्डा कोतवाली पहुंचे परिजनों ने कोतवाली निरीक्षक संजय पाण्डेय को लिखित तहरीर देते हुए पति, सास, ससुर, देवर, ननद के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही करने की मांग किया है। समाचार संकलन के समय खबर मिली है कि सूचना पर घटना स्थल पहुंची पुलिस ने मृतिका के देवर को हिरासत में ले लिया है। पुलिस क्षेत्राधिकारी अमर बहादुर ने मृतिका के परिजनों को आश्वासन देते हुए कहा कि पोस्टमार्टम से मृत्यु का कारण स्पष्ट हो जाएगा, और मामला हत्या का हुआ तो आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा।

इसे टच कर पढ़िए कि सपा नेता के सर कैसे चढ़कर बोल रहा है समाजसेवा का जुनून