बलिया से  अखिलेश सैनी व नवल जी की संयुक्त रिपोर्ट

सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now

बलिया। बैरिया स्थानीय तहसील में बुधवार की दोपहर बाद बीएलओ को हटाने की मांग को लेकर जमकर बवाल हुआ। विधायक सुरेंद्र सिंह के पुत्र हजारी सिंह व उनके समर्थकों ने रजिस्ट्रार कानूनगो निर्वाचन राधेश्याम राम के साथ कहासुनी, हाथापाई व मारपीट की। इसके बाद रजिस्ट्रार कानूनगो निर्वाचन के समर्थन में तहसील के कर्मचारी अपने कार्यालय में ताला बंद कर हड़ताल पर चले गए । एसडीएम की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस डाक्टरी मुआयना के लिए रजिस्ट्रार कानूनगो निर्वाचन को सोनबरसा अस्पताल ले गई। इस मामले में 10 लोगों पर मुकदमा किया गया है।
रेवती विकास खंड के जमधरवा (झरकटहां) ग्राम पंचायत में तैनात बीएलओ संगीता यादव पत्नी संजय यादव को वहां से हटाने के लिए विधायक के पुत्र रजिस्ट्रार कानूनगो निर्वाचन से आग्रह करने गए थे, जहां इस प्रकरण को लेकर रजिस्ट्रार कानूनगो के साथ कहासुनी और मारपीट हो गई। इसकी सूचना एसडीएम ने बैरिया थाने को दी, जहां से कोतवाल सहित भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंच गई। एसडीएम अशोक चौधरी का कहना है कि प्रकरण की जानकारी मैंने जिलाधिकारी को दे दी है। जिलाधिकारी के निर्देशानुसार कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
रजिस्ट्रार कानूनगो निर्वाचन का कहना है कि विधायक के पुत्र व उनके पांच-छह समर्थकों ने मेरे साथ मारपीट की, जबकि विधायक सुरेंद्र सिंह के पुत्र हजारी सिंह ने मारपीट के आरोप को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि मैं तहसील में गया ही नही था। मैं बिहार में शिक्षकों की हड़ताल मे शामिल था। हमने अपने कार्यकर्ता कृष्णा सिंह के कहने पर एसडीएम साहब को फोन कर सम्बन्धित बीएलओ को वहां से हटाने का आग्रह किया था। पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर मेरे ऊपर मारपीट का आरोप लगाया जा रहा है।

सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now