बहुप्रतीक्षित टेण्डर विलम्बित होने से ठेकेदारों में बेचैनी – निरस्त होने की आशंका

Sharing Is Caring:
सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now

अम्बेडकरनगर: नगर पालिका प्रशासन द्वारा गत दिनों जारी करोड़ों रुपय के टेंडर का फाइनेंशियल बिट पांच दिन बाद भी ओपन नहीं किए जाने से ठेकेदारों में बेचैनी देखी जा रही है तथा सभी कार्यों को निरस्त करने की चर्चाएं भी चल रही है हालांकि 72 कार्यों में से 25 कार्य पहले ही निरस्त किया जा चुका है।
टाण्डा नगर पालिका प्रशासन द्वारा नगर क्षेत्र के विभिन्न स्थानों करोड़ों रुपये की लागत से होने वाले 72 कार्यों की अति अल्पकालीन ई निविदा प्रकाशित की गई थी जिसमें कई कार्य पहले होने का समाचार प्रकाशित होने के बाद आननफानन में 25 कार्यो को निरस्त कर दिया गया था तथा अन्य 47 कार्यो की ई निविदा 27 फरवरी को दोपहर 2 बजे खोली जानी थी लेकिन दो दिन बाद मात्र टेक्निकल बिट खोली गई और आज तक फाइनेंशियल बिट ओपन नहीं कि गई है। पांच दिन बाद भी फाइनेंशियल बिट ओपन नहीं होने से ठेकेदारों में काफी बेचैनी देखी जा रही है। जनचर्चा है कि सभी कार्यों को निरस्त कोयाजा सकता है हालांकि ईओ मनोज कुमार सिंह ने बताया कि टेक्निकल बिट ओपन कर सभी प्रपत्रों को अपलोड किया जा रहा है तथा शीघ्र फाइनेंशियल बिट भी ओपन कर दी जायेगी।
आपको बताते चलेंकि गत दिनों नगर क्षेत्र के चार विभिन्न स्थानों की ई निविदा ओपन की गई थी जिसमें लगभग 20 प्रतिशत कम मूल्य पर टेंडर पास हुआ था और इस निविदा में लगभग निर्धारित मूल्य पर ही निविदा डाली गई है। अंदर खाने में चर्चा है कि मात्र चन्द दिनों में ही 20 प्रतिशत से मात्र 1 या 2 प्रतिशत पर पहुंच गई है और  ई निविदा में ठेकेदारों व नगर पालिका प्रशासन के बीच समझौता नहीं हो पा रहा है जिसके कारण ई निविदा निरस्त हो सकती है।
बहरहाल करोड़ों रुपये की ई निविदा अपने निर्धारित समय से काफी विलम्ब चल रही है जिसको लेकर ठेकेदारों में बेचैनी देखी जा रही है जबकि नगर पालिका प्रशासन व ठेकेदार ऊँट को करवट बैठाने में जुटे हुए हैं।

टाण्डा नगर पालिका में टैक्स की वसूली को लेकर अध्यक्ष व ईओ आमने सामने

Related Posts

बकरीद पर्व को लेकर कलेक्ट्रेट सभागार में सम्पन्न हुई सेंट्रेल पीस कमेटी की बैठक

ठेकेदार द्वारा वर्षों पुराने हरे पेड़ को उखाड़ फेंकने से समाजसेवियों में आक्रोश

टांडा तहसील सभागार में सम्पन्न हुई पीस कमेटी की बैठक

error: Content is protected !!