बहुचर्चित मेडिकल कालेज AC चोरी प्रकरण का खुलासा-मुकदमा वादी सहित पांच गिरफ़्तार

Sharing Is Caring:

लायल टेक का तत्कालीन सुपरवाइजर ही निकला मास्टरमाइंड

सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now

तीन माह पूर्व महामाया राजकीय एलोपैथिक मेडिकल कालेज से चोरी हुए एक दर्जन से अधिक इलेक्ट्रानिक्स उकरण में अलीगंज पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। मुकदमा वादी सहित पांच लोगों को गिरफ्तार कर तीन यूनिट उपकरणों को बरामद भी कर लिया है।

गत वर्ष 17 सितंबर को लायल टेक के सुपरवाइजर गुड्डू वर्मा पुत्र जोखू ने अलीगंज पुलिस को तहरीर देते हुए बताया कि टाण्डा तहसील क्षेत्र के सददरपुर में संचालित महामाया राजकीय एलोपैथिक मेडिकल कालेज से सम्बद्ध चिकित्सालय के चिकित्साधिकारी कार्यालय के ऊपर तृतीय तल पर बने लेक्चर थियेटर में मेडिकल कालेज प्रशासन द्वारा आधा दर्जन एअर कंडीशन व स्टेबलाइजर लगवाए गए थे और 06 सितंबर को सुपरवाइजर व चिकित्साधिकारी ने संयुक्त निरीक्षण में लेक्चर थियेटर से चार ए.सी इनडोर यूनिट, दो आउटडोर यूनिट व छः स्टेबलाइजर गायब मिले तथा चिकित्साधिकारी के पास बने मेडिकल कालेज रिकार्ड सेक्शन के बाहर से भी एक ए.सी का आउटडोर यूनिट गायब मिली। उक्त तहरीर पर अलीगंज पुलिस ने अपराध संख्या 168/19 पर धारा 457, 380 व 411 के तहत अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू किया था।पुलिस कप्तान आलोक प्रियदर्शी के निर्देश व अपर पुलिस अधीक्षक अवनीश कुमार मिश्र के पर्यवेक्षण तथा पुलिस क्षेत्राधिकारी अमर बहादुर के नेतृतव में अलीगंज थानाध्यक्ष रामचन्द्र सरोज ने अपनी निगरानी में मेडिकल कालेज चौकी इंचार्ज मनोज कुमार सिंह को उक्त घटना का खुलासा करने के लिए लगाया गया था। सीओ अमर बहादुर ने आज अलीगंज थाना पर प्रेस कांफ्रेंस करते हुए बताया कि मेडिकल कालेज ए.सी चोरी प्रकरण में दर्ज मुकदमा का पर्दाफाश किया गया है जिसमें मुकदमा दर्ज कराने वाला तत्कालीन सुपरवाइजर गुड्डू वर्मा उर्फ जितेंद्र कुमार पुत्र जोखू राम जो चोरी का मास्टर माइंड निकला और पुलिस ने ममरेज़पुर में स्थित गुड्डू वर्मा की दुकान से तीन यूनिट एयरकंडीशन उपकरण बरामद कर राम शकल वर्मा पुत्र रामजीत वर्मा, चौधरी मर्यादा सिंह पुत्र शोभाराम वर्मा, उपेंद्र वर्मा पुत्र वंशराज वर्मा, विकास यादव पुत्र छांगुर यादव को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस के अनुसार दो इनडोर यूनिट व एक आउटडोर यूनिट बरामद की गई है जबकि दो इनडोर यूनिट, दो आउटडोर यूनिट सहित 06 स्टेबलाइजर को इन लोगों द्वारा बेचा जा चुका है। पुलिस ने सभी अभियुक्तों का प्राथमिक चिकित्सीय परीक्षण कराते हुए न्यायालय में पेश किया जहां से सभी को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।
बहरहाल बहुचर्चित मेडिकल कालेज ए.सी चोरी कांड का पुलिस ने खुलासा करते हुए मुकदमा दर्ज कराने वाले लायल टेक के तत्कालीन सुपरवाइजर सहित पांच लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया तथा चोरी हुए 13 यूनिट उपकरणों में से तीन उपकरण भी बरामद कर लिया है।

Related Posts

बकरीद पर्व को लेकर कलेक्ट्रेट सभागार में सम्पन्न हुई सेंट्रेल पीस कमेटी की बैठक

ठेकेदार द्वारा वर्षों पुराने हरे पेड़ को उखाड़ फेंकने से समाजसेवियों में आक्रोश

टांडा तहसील सभागार में सम्पन्न हुई पीस कमेटी की बैठक

error: Content is protected !!