बलिया बलिदान दिवस का अवकाश घोषित कराने वाले लोकतंत्र सेनानी ने दुनिया को किया अलविदा

Sharing Is Caring:

अनेकों शहीद स्मारक व स्तम्भ की स्थापना के लिये श्री पाण्डेय ने किया था लम्बा संघर्ष

सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now

रसड़ा(बलिया)। वतन,समाज और देश को हमेशा नयी दिशा देने व देश के शहीदों की दास्तां को आम जनों में हमेशा जीवित रखने के लिए अपना पूरा जीवन ही लगा देने वाले लोकतंत्र सेनानी , क्रांतिकारी नेता व क्रांतिकारी स्मारक समिति उप्र के प्रदेश अध्यक्ष अंजनी कुमार पाण्डेय का शनिवार को सबेरे मऊ के अस्पताल में निधन हो गया। वे 62 वर्ष के थे। बताते चलें कि श्री पाण्डेय काफी दिनों से बीमार चल रहे थे। बताते चलें कि मूलरूप से नागपुर गांव निवासी श्री पाण्डेय ने विवाह न करके क्रांतिकारियों व शहीदों के लिये अपना जीवन समर्पित कर दिया। अपने जुझारू प्रयास के बल पर रसड़ा में किंग जॉर्ज सिल्वर जुबली इंटर कॉलेज के गुलामी के द्योतक नाम को बदलकर अमर शहीद भगत सिंह इंटर कॉलेज का नाम करण करवाया। यहां शहीद भगत सिंह की प्रतिमा व स्मारक के अलावा जनपद में अनेकों शहीद स्मारक स्तम्भ स्थापित कराने व बलिया में 19 अगस्त को बलिया बलिदान दिवस की छुट्टी घोषित कराने के लिये श्री पाण्डेय ने काफी संघर्ष किया व मुकाम हासिल किया था। उनके निधन की खबर मिलते ही पूरे क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई। इस।मौके पर पूर्व विधायक दर्जा प्राप्त मंत्री सनातन पाण्डेय प्राप्त,पूर्व भाजपा विधायक रामइकबाल सिंह, प्रधान संघ के जिलाध्यक्ष राधेश्याम यादव,सपा के विधानसभा इकाई अध्यक्ष विजयशंकर यादव, पुरुषोत्तम यादव, बलवंत सिंह, सिया राम यादव, नपा चैयरमैन प्रतिनिधि वशिष्ठ नारायण सोनी,कोंग्रेस के मसूद आलम,बसपा के हाजी नुरुल बसर अंसारी,बीरबल राम,सामाजिक कार्यकर्ता सुरेश राम,उत्तीर्ण पाण्डेय,प्रधान संघ के पूर्व महामंत्री अरुण सिंह मुन्ना एडवोकेट आदि लगभग सभी दल पार्टी के नेता,जनप्रतिनिधियों ने अपनी गहरी शोक संवेदना व्यक्त करते है।

अन्य खबर

डीजे बजाने से मना करने पर दबंगों ने डीजे संचालक की जमकर की पिटाई – मुकदमा दर्ज

अज्ञात वृद्ध ने घाघरा नदी में लगाई छलांग – तलाश जारी

संदिग्ध हालत में तालाब से बरामद हुआ 27 वर्षीय युवक का शव – पोस्टमार्टम 

error: Content is protected !!