सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now

अम्बेडकरनगर: दिल्ली के निजामुद्दीन में स्थित विश्व स्तरीय धार्मिक प्रचार सेंटर (मरकज़) में कोरोना वायरस (कोविड-19) के संदिग्ध मरीजों के देश के विभिन्न कोनों में पहुँचने की खबर प्रकाश में आते ही जिला प्रशासन सतर्क हो गया। टाण्डा में संचालित मदरसों के छात्रावास में रहने वाले छात्रों की जानकारियां प्राप्त करने उप जिलाधिकारी अभिषेक पाठक व सीओ अमर बहादुर टाण्डा कोतवाली निरीक्षक संजय कुमार पाण्डेय के साथ स्वयं पहुंचे तथा उन्हें कोविड-19 से सजग रहने के लिए उचित दिशा निर्देश दिया।
टाण्डा नगर क्षेत्र के मदरसा मंज़रे हक व मदरसा ऐनुल उलूम में शिक्षा ग्रहण कर रहे लगभग सभी छात्र अपने अपने घरों को जा चुके है जबकि मदरसा कंजुल उलूम में 19 छात्र मौजूद हैं। मदरसा प्रबन्धक तुफैल अख्तर में बताया कि बिहार जाने वाली ट्रेन कैंसिल होने के कारण 19 छात्रों की एक टोली अपने घर नहीं जा सकी है लेकिन उनके रहने का उचित प्रबन्ध कर दिया गया है। श्री अख्तर ने बताया कि एक कमरे में मात्र तीन से चार छात्रों को रखा गया है तथा पूरे मदरसे को सेनेटाइजरिंग कराई गई है और सभी छात्रों की सूची प्रशासन को सुनो दी गई है। मदरसा मंज़रे हक में मात्र दो व मदरसा ऐनुल उलूम में छः लोग बाहर के मौजूद हैं जिनके रहने का उचित प्रबन्ध किया गया है। उक्त अवसर पर मौजूद कोविड-19 चिकित्सा टीम के डॉक्टर निसार अहमद व डॉक्टर सईद अख्तर ने सभी छात्रों का स्वास्थ्य परीक्षण किया।
बहरहाल दिल्ली के मरकज़ में मचे हड़कम्प के बाद से जिला में भी प्रशासन सतर्क हो गया है और छोटी बड़ी सूचनाओं की जमीनी जांच स्वयं करते नज़र आ रहे हैं।

धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होकर आए 14 लोगों को मेडिकल कालेज सददरपुर में किया गया कोरन्टीन – इसे टच कर पढिये पूरी खबर

सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now