सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now

अम्बेडकरनगर जनपद में कोविड 19 का कहर लगातार जारी है। प्रशासन का दावा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से अभी तक तीन लोगों की मृत्यु हो चुकी है। बरियावन निवासी हाजी आबिद मेहंदी पुत्र अख्तर अब्बास ज़ैदी के परिजनों का एक तरफ दावा है कि वो जहां किडनी की बीमारी से दो चार था वहीं उसकी मिट्टी में डेढ़ दर्जन से अधिक लोग शामिल हुए थे। आपको बताते चलेंकि शुक्रवार की देर रात्रि में मृतक का शव लखनऊ से उनके पैतृक आवास लाया गया था, जहां मौलाना महताब साहब ने डेढ़ दर्जन से अधिक लोगों के साथ मरहूम के जनाजा को नमाज़ अदा कर दुआएं मांगी थी। मृतक की पत्नी शादा बानों तो ये मानने को तैयार ही नहीं हैं कि उनके पति को कोरोना हुआ था। शुक्रवार को समाचार मिला था कि मृतक के परिजनों ने किनारा कस लिया था हालांकि ऐसा नहीं था, बल्कि मृतक की बहन का लड़का रिज़वान हैदर मुम्बई से लेकर कब्रिस्तान तक उनके साथ साथ ही रहा, तथा लॉक डाउन के कारण रिश्तेदारों को मिट्टी में शामिल होने से मना कर दिया गया था, मिट्टी के दौरान डेढ़ दर्जन से अधिक लोग शामिल हुए थे, विधिवत मरहूम के लिए जनाजा की नमाज़ अदा की गई थी।
आपको बताते चलेंकि शनिवार को समाचार प्राप्त हुआ था कि कोरोना संक्रमण की चपेट में आए मृतक आबिद के परिजनों ने किनारा कस लिया था जिसके कारण वरिष्ठ समाजसेवी धर्मवीर सिंह बग्गा ने अंतिम संस्कार किया था, जबकि परिजनों के अनुसार ऐसा नहीं था, बल्कि पी पी किट ना होने के कारण प्रशासन ने परिजनों को दूर रहने का निर्देश दिया था लेकिन इसके बावजूद रिज़वान हैदर कब्र में सबसे पहले उतरे थे, हालांकि वरिष्ठ समाजसेवी धर्मवीर सिंह बग्गा पी पी किट पहने हुए थे और परिजनों की अनुमति से उन्होंने अंतिम समय में सराहनीय सहयोग किया था। मृतक हाजी आबिद मेंहदी के दो पुत्र फैज़ान मेंहदी व अदनान मेंहदी व एक पुत्री महेर सैय्यद हैं, जिसमें से एक पुत्र सऊदी अरब में है। उनकी वृद्ध माता ज़ाहिदा सैय्यद व पत्नी शादा बानों भी उनके साथ ही रहती थीं।
आपको बताते चलेंकि मृतक हाजी आबिद मेंहदी अपनी बहन के लड़के रिजवान हैदर के साथ मुम्बई से बरियावन आए थे, तथा उनके साथ ही रहते हुए अकबरपुर के एक निजी अस्पताल में उनका इलाज कराया व उनकी डायलिसिस कराई थी। प्रशासन ने मृतक आबिद मेंहदी के परिवार के दो दर्जन से अधिक लोगों सहित उक्त अस्पताल के पूरे स्टाफ का सैम्पल जांच के लिए भेजा था जो निगेटिव मिला। परिजनों का आरोप है कि मुम्बई से लेकर कब्रिस्तान तक साथ मे रहने वाले रिज़वान हैदर की भी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है तो हाजी आबिद मेंहदी को कोरोना कैसे हो गया।
बहरहाल प्रशासन के अनुसार कोरोना वायरस के संक्रमण से आबिद मेंहदी की मृत्यु है जबकि परिजनों ने कई गंभीर सवाल उठाए हैं, दूसरी तरफ मृत्यु के उपरांत परिजनों द्वारा किनारा कसने की खबर का भी खंडन हुआ है क्योंकि रात्रि तीन बजे भी डेढ़ दर्जन से अधिक लोग सोशल डिस्टेंडिंग का पालन करते हुए मिट्टी में शामिल हुए और नमाज़े जनाज़ा अदा कर मरहूम के लिए दुआएं भी किया था।

सूचना न्यूज़ Whatsapp Join Now
Telegram Group Join Now