अम्बेडकरनगर (सूचना न्यूज़ कार्यालय) आलापुर तहसील परिसर में कल लेखपाल संघ के सदस्यों एवं एसडीएम के बीच मतदाता पुनरीक्षण अभियान को लेकर कई घंटे तक हुई धक्का मुक्की एवं जमकर बवाल के हुआ था। धक्का मुक्की एवं बवाल को देखते हुए पूरे तहसील परिसर में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। घटना की सूचना मिलते ही डीएम सैमुअल् पॉल ने आलापुर तहसील पहुच कर मामले की जानकारी भी लिया।

उक्त मामले में देर रात एसडीएम से अभद्रता करने के आरोप में तीन लेखपालों को निलंबित कर दिया गया है इसके साथ ही 3 लेखापालो के खिलाफ नामजद एवं 25 अज्ञात लेखपालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

आलापुर एसडीएम और लेखपालो के बीच बवाल के बाद मुकदमा दर्ज होने और निलंबन के बाद तहसील के लेखपालों ने हड़ताल कर दिया है। लेखपाल संघ के सदस्यों का आरोप है कि एस डीएम द्वारा लेखपालो के साथ अमर्यादित व्यवहार किया जाता है। जिसकी वजह से उन लोगो को ठेस पहुचती है। इसी मामले की शिकयत लेकर लेखपालसंघ एसडीएम से मिलने गए थे लेकिन एसडीएम उन लोगो की बात न सुनकर धमकी देने लगे। लेखपाल संघ आलापुर के अध्यक्ष राम सिधार ने बताया कि सिंगारी देवी स्कूल में मतदाता सूची को लेकर बीएलओ का प्रशिक्षण चल रहा था। प्रशिक्षण के दौरान एसडीएम ने लेखपालों एवं संघ के मंत्री के साथ अभद्रता एवं अपशब्दों का प्रयोग किया और साथ ही जातिसूचक शब्दो का प्रयोग किया था जिसे लेकर वह मिलने गये तो उपजिलाधिकारी उनको धमकी देने लगे। उन्होंने कहा कि कल हुई घटना को लेकर लेखपाल संघ तहसील में धरना दे रहे है ।लेखपालों की मांग है उन पर दर्ज मुकदमा एवं उनका निलंबन वापस हो साथ ही एस डीएम का स्थान्तरण किया जाए।

एसडीएम मोहनलाल गुप्ता का कहना है कि लेखपाल संघ के अध्यक्ष राम सिधार ने उनके साथ अभद्रता किया वही इस पूरे प्रकरण पर एडीएम अशोक कुमार कन्नौजिया ने बताया कि उपजिलाधिकारी एवं लेखपालो की तरफ से बताया गया कि काम को लेकर उनके साथ कुछ अभद्रता किया पूरे मामले पर जिलाधिकारी की तरफ से एक जांच कमेटी गठित किया गया है और जो भी दोषी पाया जाएगा उस पर कार्यवाही किया जाएगा।