अम्बेडकरनगर (सूचना न्यूज़ कार्यालय) प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के लाभार्थी ने टाण्डा कोतवाली पुलिस पर अवैध धन की मांग पूरा ना करने पर पिटाई करने का गंभीर आरोप लगाते हुए IGRS के माध्यम से न्याय की गोहार लगाई है हालांकि कोतवाली निरीक्षक ने बताया कि पड़ोसी से विवाद है और दोनों पक्ष को शान्ति भंग की आशंका में बैठाया गया है।
टाण्डा नगर क्षेत्र के मोहल्लाह सकरावल निवासी शम्सुल आरफीन की पत्नी सुमुल आरफीन ने मुख्यमंत्री जनशिकायत पोर्टल (IGRS) पर मंगलवार को शिकायत करते हुए टाण्डा कोतवाली पुलिस पर अवैध धन की मांग पूरी ना करने पर कोतवाली में बंद कर लिटाए का गंभीर आरोप लगाया है। श्रीमती सुमुल ने बताया कि प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के तहत उनका भवन बन रहा है और उक्त भूमि पर किसी भी तरह की कोई शिकायत अथवा विवाद भी नहीं है लेकिन कोतवाली पुलिस जबरन उनके पति शम्सुल आरफीन को कोतवाली उठा कर ले गई और बिना किसी कारण के ही उनसे अवैध धन की मांग करने लगी। कोतवाली पुलिस की मांग पूरी ना करने पर कोतवाली परिसर में ही उनकी पिटाई की गई तथा अभी तक उन्हें बंद कर रखा है। श्रीमती सुमुल ने बताया कि उनके अधिवक्ता द्वारा कोतवाली निरीक्षक से वार्ता करने पर निरीक्षक कुछ भी सुनने को तैयार नहीं हैं और IGRS की जानकारी होने पर कोतवाली पुलिस उनके एक पड़ोसी को भी उठा लाई है जबकि उनके किसी से कोई विवाद ही नहीं है और ना ही उनके खिलाफ कोई शिकायत है। टाण्डा कोतवाली निरीक्षक विजेन्द्र शर्मा ने बताया कि पांच दिन पूर्व शम्सुल व उनके पड़ोसी में भवन निर्माण को लेकर विवाद हुआ था जिस पर विवादित स्थल ओर निर्माण ना करने पर सुलह भी हुई थी लेकिन मंगलवार को शम्सुल द्वारा पुनः निर्माण कराया जाने लगा तो शांति भंग की आशंका में दोनों पक्षों को थाना पर लाया गया है और सुबह मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया जाएगा। पुलिस द्वारा पिटाई करने के आरोप को कोतवाली निरीक्षक ने खारिज कर दिया।