मलेशिया में एक एजेंट द्वारा गए और कई वर्षों से फंसे 4 भारतीय प्रवासी कामगार युवको की वतन वापसी कराने की मुहिम सफल हो गई है। सभी भारतीयों की सकुशल वतन वापसी भी हो चुकी है और वापस लौटे युवकों ने आबिद हुसैन उर्फ़ बजरंगी भाई जान का एक वीडियो बना कर आभार व धन्यवाद प्रकट किया है।


वर्षों से मलेशिया में फंसे (1) लालगंज आजमगढ़ उत्तर प्रदेश के वेद प्रकाश, (2) ग्राम बाहुस पोस्ट सिंगधी, कुशीनगर उत्तरप्रदेश के अली इन्ताफ, (3) हस्सेपुर गोपालगंज गंज बिहार के कलीम अंसारी, (4) वेस्टबंगाल के शेख जसीम की सकुशल वतन वापसी हो गई है।
उक्त सभी लोग एक एजेंट के द्वारा मलेसिया गए थे और वहाँ जाकर फंस गए। ऐसे में उन्हें बहुत दिक्कत का सामना करना पड़ा इस वजह वो भारत नहीं आ पा रहे थे। एजेंट ने मलेसिया मे लेजाकर फसा दिया यह लोग मलेशिया मे दर दर भाटकने को मजबूर होगये और इनके पास मलेसिया मे रहने खाने तक की दुश्वारी हो गई थी इन युवकों ने टांडा अम्बेडकरनगर निवसी शैलेन्द द्वारा सितंबर 2021 में रुद्रपुर भगाही अम्बेडकर नगर के सैयद आबिद हुसैन उर्फ बजरंगी भाई जान से सम्पर्क किया जो भोपाल मे रहते हैं और उन लोगों के मलेशिया में फंसने की दास्तान बताई। बताते चले के कुल मिला के 10 लोगो की मलेशिया मे फसे होने की खबर मिलते ही आबिद हुसैन उर्फ बजरंगी भाई जान ने तत्काल इंडियन मलेशिया हाई कमीशन और भारत विदेश मंत्रालय से सम्पर्क किया और इनकी डिटेल मेल कर उन लोगों की वतन वापसी की मुहिम में जुट गए। आबिद ने इन्हे भारतीय मलेसिया हाई कमिशन भेजा और वहा रहने खाने का इंतेज़ाम करवाया और आबिद हुसैन के अथक प्रयास के बाद 6 लड़को की वतन वापसी पिछले माह 31 अक्टूबर को होगई थी लेकिन इन चार लड़को का पासपोर्ट ना होने की वजह से कुछ दिन बाद वापसी मुमकिन होसकी और आज आबिद के प्रयासों की वजह से आखिरकार इंडियन मलेसिया हाई कमीशन ने इन सभी लोगों के वापसी का टिकट करवा कर भारत भेज दिया। आबिद हुसैन ने इन सभी लड़कों की मदद करने एवं इनके भारत सकुशल भेजने के लिए विदेश मांत्रालय और इंडियन मलेशिया हाई कमीशन का धन्यवाद अदा किया और सैयद आबिद हुसैन ने लोगो से एक बार फिर अपील किया कि फर्जी एजेंटों से सावधान रहें और इनके जाल साजी में न आयें। उन्होंने कहा कि विदेश जरूर जायें पर बहुत सतर्क और सुरक्षित हो कर जायें। एजेंट और एजेंसी व दस्तावेज की पूरी जांच पड़ताल कर के ही जायें और जाते ही सम्बंधित एम्बेसी एवं हाई कमीशन से जरूर संपर्क करें। ताकि उनके साथ कोई भी दिक्कत आये तो एम्बेसी आपकी सीधे मदद कर सके।