अम्बेडकरनगर: देर रात्रि में स्वाट टीम के सिपाही द्वारा जिला अस्पताल में भर्ती कराए गए युवक की संदिग्ध हालत में मौत हो गई जिससे पुलिस व प्रशासनिक अमले में हड़कम्प मच गया। परिजनों ने पुलिस पर हत्या करने का आरोप लगाते हुए मेडिकल टीम गठित कर वीडियों ग्राफी कराते हुए पोस्टमार्टम कराने की गोहार जिलाधिकारी से लगाते हुए न्यायिक जांच की मांग किया है।


शहाबुद्दीन पुत्र अलाउद्दीन निवासी हाजीपुर कुदरत थाना पवई जनपद आजमगढ़ ने जिलाधिकारी सैमुअल पाल एन को प्रार्थना पत्र देकर बताया कि 24 मार्च को प्रार्थी का 36 वर्षीय भाई जियाउद्दीन रिश्तेदारी में जाने के लिए निकला था लेकिन पुलिस उन्हें उठा ले गई और उत्पीड़न किया तथा 25/26 की रात्रि में प्रार्थी की भाभी के मोबाइल पर सूचना दी गई कि उनके भाई का स्वास्थ्य खराब है जल्दी चलें आएं। परिजनों ने जैतपुर थाना से संपर्क किया लको कोई वाजिब जवाब नहीं दिया गया और 26 मार्च को पता चला कि ऊ के भाई की जिला अस्पताल में मौत हो गई है। जिलाधिकारी से गोहार लगाई गई कि उनके भाई का पोस्टमार्टम मेडिकल टीम गठित कर वीडियों ग्राफी के साथ करते हुए पोस्टमार्टम मो रिपोर्ट उन्हें उपलब्ध कराई जाए तथा पूरे घटना क्रम की न्यायिक जांच कराई जाए।
जिला स्वाट टीम पर मृतक जियाउद्दीन की बेरहमी से पिटाई करने का आरोप लगाया गया है। सूत्रों के अनुसार स्वास्थ काफी खराब होने के बाद स्वाट टीम के सदस्य हरकेश यादव द्वारा बीती रात्रि लगभग सवा एक बजे उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल सूत्रों के अनुसार मृतक के शरीर पर पिटाई के काफी निशान स्पष्ट नज़र आ रहे थे।
बहरहाल जियाउद्दीन की मौत का रहस्य फिलहाल बरकरार है और परिजन स्वाट टीम पर हत्या का आरोप लगा रहे है। अकबरपुर कोतवाली निरीक्षक फोन नहीं उठा रहे हैं जबकि सीओ सिटी ने परिजनों की तहरीर मिलने की पुष्टि करते हुए बताया कि मेडिकल टीम द्वारा पोस्टमार्टम कराया जाएगा और अभी तक कोई अन्य कार्यवाही नहीं कि गई है।