अम्बेडकरनगर (सूचना न्यूज़ कार्यालय) रूहानी इलाज के लिए विश्व विख्यात दरगाह किछौछा आई महिला ने बसखारी पुलिस को तहरीर देकर दरगाह कमेटी के ही आधा दर्जन लोगों पर छेड़छाड़ व मारपीट करने का आरोप लगाया है जबकि कमेटी ने आरोप को निराधार बताते हुए किशोरी पर दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया है।


दरगाह किछौछा में रूहानी इलाज के लिए गैर जनपद से आई एक महिला ने बसखारी पुलिस को तहरीर देते हुए दरगाह कमेटी के आधा दर्जन लोगों पर अपनी किशोरी से छेड़छाड़ व मार पीट का आरोप लगाया है। महिला ने कहा कि उसकी 16 वर्षीय बेटी रूहानी इलाज के उद्देश्य से अपने 8 वर्षीय भाई के साथ नीर शरीफ के किनारे बैठी थी कि कमेटी के आशा दर्जन लोग आए और उसका दुपट्टा खींच कर मारपीट करने लगे और जब उसका 17 वर्षीय पुत्र भी पहुंचा तो उसे भी मारा पीटा जिससे उसकी आंख के नीचे निशान भी पड़ गया है। जबकि इंतेजामिया कमेटी के उपाध्यक्ष मौलाना आफताब ने बताया कि आरोपी पूरी तरह से निराधार है। उन्होंने बताया कि दरगाह परिक्षेत्र में कुछ लड़कियों द्वारा गलत कार्य करने की सूचना पर कमेटी के सदस्य निगरानी कर रहे थे और बीती देर रात्रि में अकेली मिली एक किशोरी को अपने कमरे पर जाने के लिए कहा और इस बीच उसका भाई कमेटी के सदस्यों से बदतमीजी भी करने लगा जिसे समझा बुझा कर भेज दिया गया।
बहरहाल देश के कोने कोने से दरगाह किछौछा में रूहानी इलाज के लिए आने वाले जायरीनों के लिए कोई खास नियम कानून नहीं है। दरगाह कमेटी के सदस्यों पर जायरीनों से मारपीर का आरोप भी अक्सर लगता रहता है लेकिन इस बीच गैर जनपदीय जायरीन महिला द्वारा कमेटी के सदस्यों पर ही छेड़छाड़ व मारपीट का आरोप लगा देना काफी चर्चा का विषय बन गया है हालांकि इसकी हकीकत की जांच का पुलिस दावा कर रही है।