अम्बेडकरनगर (रिपोर्ट: अरविंद यादव) किराया बढ़ाने के लिए मकान मालिक ने बैंक को पहले नोटिस दिया और बात ना मानने की दशा में बैंक में ताला जड़ दिया। मौके पर पहुंची पुलिस मकान मालिक को समझाने में लगी रही। बैंक उपभोक्ताओं को काफी परेशानी का समान करना पड़ा। कतमचारी भी बैंक के बाहर बैठे नज़र आए।


ज्ञात हो कि नगर पंचायत इल्तिफ़ातगंज के ईश्वर नगर मोहल्ले में स्थित ग्रामीण बैंक ऑफ़ बड़ौदा औरंगाबाद किराये के भवन में संचालित होता है। मकान मालिक श्रीमती चन्द्रा देवी ने बताया गया कि उनके मकान में ग्रामीण बैंक खुला है जिसका एग्रीमेंट 2019 को खत्म हो गया है। जहाँ एक कमरे का किराया 2000 रुपये हैं, तो वहीं बैंक से हुए एग्रीमेंट में 2500 रुपये का 2019 तक एग्रीमेंट हुआ था जो अब खत्म हो गया है। बैंक को मेरे पुत्र धर्मप्रकाश द्वारा कई बार अवगत कराया गया कि समय के साथ अब तो किराया बढ़ा दिया जाए लेकिन बैंक ने इस तरफ कोई भी ध्यान नहीं दिया जिसके बाद मेरे पुत्र द्वारा न्यायालय की शरण लेनी पड़ी जहां से विगत वर्ष से तीन बार नोटिस भी दिया गया जिसके बाद भी बैंक द्वारा कोई भी ठोस कदम नहीं उठाया गया मजबूरन आज बैंक में ताला बंद करना पड़ा।
वहीं धर्मप्रकाश गुप्ता के द्वारा बताया गया कि नोटिस के बावजूद कोई सुनवाई नहीं हुई इस लिये बैंक में ताला जड़ दिया गया है।बैंक या तो किराया बढ़ाए अन्यथा मेरा मकान खाली कराए जब एग्रीमेंट खत्म हो गया तो फिर दो साल से क्यो कब्जा किए बैठे हैं।
वहीं बैंक में ताला लगाने की सूचना पर पहुंचे थानाध्यक्ष सुधांशु वर्मा ने मकान मालिक को समझाते हुए दिखाई दिए जहां मौके पर भारी संख्या में पुलिस प्रशासन लगी रही तो वही कई घंटे बीत जाने के बावजूद कोई अन्य अधिकारी दिखाई नहीं पड़ा।