भोपाल/लखनऊ: सुनहरा सपना दिखा कर विदेश भेजने वाले एजेंट काफी सक्रिय है जिसके कारण सीधे साधे लोग उनके बिछाये जाल में फंस जाते हैं और अपना जीवन तक खतरे में डाल देते हैं।
ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के अम्बेडकरनगर जनपद से सामने आया। अम्बेडकरनगर की तहसील आलापुर के सोनहूँ गाँव निवासी बालेन्द्र चौहान व गोविंद चौहान (पिता-पुत्र) को भी एक एजेंट ने सुनहरा सपना दिखा कर यू.ए. ई के रास अल खैमह से अजमान व शारजाह ले गए।


आंखों में सुनहरा सपना सजाये विदेश पहुँचे पिता पुत्र को उनके मूल काम टाइल्स मिस्त्री के बजाय दूसरे काम में तैनात कर दिया गया और समय से सैलरी भी नहीं दी जाती थी और जब एजेंट से बात कर वापस वतन लौटने की बात करते तो उन्हें कोई रिस्पॉन्स नहीं दिया जाता था।
एजेंट के सुनहरे सपनों का धोखा खाये पिता पुत्र ने अलापुर में एलआईयू विभाग में तैनात अजय सिंह से संपर्क किया तो अजय सिंह ने भोपाल में रह रहे अम्बेडकरनगर के थाना बसखारी क्षेत्र के रुद्रपुर भगाही गाँव निवासी सैय्यद आबिद हुसैन उर्फ बजरंगी भाई जान से संपर्क स्थापित कर पूरी कहानी बताई। श्री आबिद ने दोनों पिता पुत्रों को ढांढस बनवाते हुए दूतावास के अधिकारियों से संपर्क की पूरी जानकारी दिया और उनके अथक प्रयास से आखिरकार 20 जनवरी को दोनों पिता पुत्र सकुशल भारत वापस लौट आये। वतन वापसी पर पिता पुत्र सहित उनके परिजनों ने कहां आबिद हुसैन का धन्यवाद ज्ञापित किया वहीं श्री आबिद ने भारतीय व यू.ए.ई दूतावाया के अधिकारियों के सहयोग की सराहना करते हुए आभार प्रकट किया।